टायर से लेकर बैटरी तक, जानें गाडी के वो पार्ट्स जिन्हें किस समय बदलना चाहिए

0
185
टायर से लेकर बैटरी तक, जानें गाडी के वो पार्ट्स जिन्हें किस समय बदलना चाहिए


नई दिल्ली. ऑटोमोबाइल एक ऐसा अविष्कार है जिसने परिवहन से लेकर माल की आवाजाही तक और बहुत कुछ लोगों की समस्याओं को हल किया है. गाड़ियां आजकल हर आम इंसान की जरूरत का एक हिस्सा सा बन गई हैं, जिसके बिना यात्रा करना बहुत मुश्किल हैं. ऐसे में अपने वाहनों को चालू रखने और लंबे जीवन के लिए, समय पर रखरखाव करना आवश्यक है. कारों में पुर्जों की एक लंबी लिस्ट होती है और जिनमें से कुछ को सामान्य टूट-फूट के कारण नियमित तौर पर बदलने की आवश्यकता होती है. गाड़ियों के कुछ ऐसे हिस्से भी होते हैं, जो गाड़ियों की जिंदगी भर तक चलते हैं. हम आपको ऐसे कंपोनेंट्स की एक लिस्ट बताते हैं जिन्हें नियमित रूप से बदलने की आवश्यकता होती है.

बैटरी
बैटरी आपकी कार के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक है और इसके बिना आप अपनी कार
शुरू नहीं कर पाएंगे. सामान्यतया, एक बैटरी लगभग तीन से पांच साल तक चल सकती है, जो अलग अलग हो सकती हैं. कुछ संकेत हैं कि जिसे देख के पता चलता हैं आपकी कार की बैटरी अब ख़त्म या पुरानी हो गई हैं, जैसे कि हेडलाइट्स का धुंधला होना, कार शुरू करने में समस्या और डैशबोर्ड पर बैटरी की कम रोशनी होना. इसे समय रहते आपको बदला लेना चाहिए, जिससे आपकी कार में कोई दिक्कत न आये.

यह भी पढ़ें: Honda Amaze Facelift की डिटेल्स लॉन्चिंग से पहले हुई लीक, जानिए सबकुछ

टायर्स
टायर्स कार का एक ऐसा हिस्सा हैं, जो सड़क और कार के कांटेक्ट में रहते हैं. टायर के कई अलग-अलग प्रकार और ड्राइविंग की अलग-अलग आदतें टायर्स को अपने तरीके से ख़राब करती हैं. हालांकि ख़राब टायर का पता लगाने के लिए आप कार के टायर्स को देख कर भी लगा सकते हैं. टायरों पर थ्रेड्स होते हैं और आप यह निर्धारित करने के लिए सिक्के का इस्तेमाल कर सकते हैं कि क्या खांचे काफी गहरे हैं. भले ही टायर नए हों या पुराने, अन्य महत्वपूर्ण कारकों के अलावा, थ्रेड्स की गहराई सबसे अधिक मायने रखती है.

ब्रेक पैड्स
चलती हुई कार को ब्रेक पैड्स द्वारा रोका जाता हैं, ये कैलिपर्स में रखे गए टुकड़े हैं जो वास्तव में रोटर पर स्क्वीज़ करते हैं. ब्रेक पैड सरफेस पर घर्षण मटेरियल के साथ स्टील प्लेट से बने होते हैं, जो या तो सिरेमिक या धातु के हो सकते हैं. जब यह मटेरियल खराब हो जाता है तब कार के ब्रेक पैड को बदलना बहुत जरूरी हो जाता हैं, क्योंकि केवल स्टील बैकिंग पर ब्रेक लगाने पर ब्रेक सही से नहीं लगेंगे. ब्रेक पैड के ख़राब होने की कोई समय सीमा नहीं हैं, लेकिन आमतौर पर 25,000 किमी या 2 वर्ष के बाद इन्हें बदलना सही होता हैं.

यह भी पढ़ें: Honda ने U-GO अफोर्डेबल इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च किया, जानिए फीचर्स और प्राइस

ऑयल और एयर फिल्टर
एक कार को चलाने के लिए, एक इंजन से पावर ली जाती है (जब तक कि यह एक इलेक्ट्रिक कार न हो). इंजन का काम बहुत ही आसान है, ये एयर को खींचता हैं और फिर इसे फ्यूल के साथ मिला देता हैं. इंजन ये काम कार को धक्का लगाने या चलाने के लिए करता है. हमारे मानव शरीर की तरह, कारों को भी सही तरीके से चलाने के लिए बिना मिलावट और फ़िल्टर की गई एयर की आवश्यकता होती है. एयर के लिए, कार के सामने एक एयर फिल्टर होता हैं और आयल के लिए, इंजन बे के अंदर आयल फ़िल्टर होता है. चूंकि ये फिल्टर अशुद्धियों को छानते हैं, इसलिए वे थोड़ी देर के बाद बंद हो जाते हैं और इसलिए हर सर्विस में, उनके प्रदर्शन की जांच करना आवश्यक हो जाता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here