धोनी भइया एकेडमी खुलवा दीजिए…! रांची की बेटियों ने की ‘माही’ से अपील

0
123
धोनी भइया एकेडमी खुलवा दीजिए...! रांची की बेटियों ने की 'माही' से अपील


रांची. खेल और प्रतिभा झारखंड की नसों में शामिल है. तीरंदाजी और हॉकी की चर्चा के बीच रांची के ग्रामीण इलाकों में इन दिनों क्रिकेट भी खूब खेला जा रहा है. रांची के कांके प्रखंड के बाढ़ू पंचायत की बेटियों ने तो क्रिकेट को ही मकसद बना रखा है. लेकिन उचित प्रशिक्षण नहीं मिल पाने से इनकी ललक कमजोर पड़ जा रही है. राज्य की राजधानी से महज 20 किलोमीटर दूर बाढ़ू पंचायत की बेटियों की ख्वाहिश है कि वे भी ‘रांची के राजकुमार’ कहे जाने वाले और भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नक्शे-कदम पर चलें. इसलिए इन बेटियों ने महेंद्र सिंह धोनी से अपील की है कि वे एक क्रिकेट एकेडमी खोलें, जहां ये लड़कियां खेल की ट्रेनिंग ले सकें.

हॉकी और तीरंदाजी को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहनेवाली झारखंड की बेटियां क्रिकेट की दुनिया में भी राज्य का नाम रोशन करना चाहती हैं. कांके प्रखंड के बाढ़ू पंचायत की इन लड़कियों को आप सुबह से मैदान में प्रैक्टिस करते देख सकते हैं. क्रिकेट की दीवानी लड़कियां खुद से क्रिकेट को समझती हैं. बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी या फिर फील्डिंग, वह खेल के हर क्षेत्र में ऊंचाइयां हासिल करना चाहती हैं.

कांके के बाढ़ू पंचायत की बेटियां क्रिकेट का प्रशिक्षण लेना चाहती हैं.

नौवाटोली की राखी उरांव को बल्लेबाजी बेहद पसंद है. उसे चौके-छक्के उड़ाने में मजा आता है. लेकिन प्रशिक्षण नहीं मिलने की वजह से उसे पता ही नहीं चलता कि किस गेंद को कैसे खेलना है. वह बताती हैं कि हॉकी की तरह गांव के आसपास भी ट्रेनिंग एकेडमी खुल जाए तो उस जैसी कई लड़कियों का क्रिकेट में करियर बनाने का सपना पूरा हो सकेगा. राखी के साथ मैदान में डटीं इशिका प्रिया और सुशीला गाड़ी को गेंदबाजी और बल्लेबाजी अच्छा लगता है. सुशीला बताती है कि वह काफी तेज गेंद फेंक सकती है,  मगर गेंदबाजी की सही तकनीक की जानकारी नहीं है.

मैदान में जमकर पसीना बहाना बहाने वाली लड़कियों को राज्य की हेमंत सोरेन सरकार से भी बड़ी उम्मीद है. लड़कियों का कहना है कि अगर हॉकी व तीरंदाजी की तरह उनके गांव के पास भी क्रिकेट एकेडमी खुल जाए, तो वे आसानी से इस खेल की बारीकियां समझ सकेंगी. मजेदार बात यह है कि इनमें से कई लड़कियां जो अच्छी तरह बल्ला या गेंद भी पकड़ना नहीं जानतीं, उन्हें भारतीय महिला क्रिकेट टीम के तमाम सितारों के नाम याद हैं. किसी को मिताली राज की बैंटिंग पसंद है, तो किसी को झूलन गोस्वामी की गेंदबाजी. लेकिन लोकल हीरो धौनी भैया के सभी फैन हैं. इसलिए लड़कियां चाहती हैं कि माही भइया उनके लिए एकेडमी खोलकर ट्रेनिंग की व्यवस्था करें.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here