जो रूट का दोस्त टीम से तंग आकर देना चाहता था जान, अब इंग्लैंड के कप्तान ने दिया बड़ा बयान

0
128
जो रूट का दोस्त टीम से तंग आकर देना चाहता था जान, अब इंग्लैंड के कप्तान ने दिया बड़ा बयान


नई दिल्ली. इंग्लैंड क्रिकेट के ढांचे में रंगभेद और नस्लवाद (Racism in England Cricket) की जड़ें काफी गहरी हैं. आज के दौर में भी कई खिलाड़ी नस्लीय दुर्व्यवहार का शिकार होते हैं. ताजा मामला इंग्लैंड के कप्तान जो रूट के दोस्त अजीम रफीक (Azeem Rafiq Racism Case) से जुड़ा है. रफीक 2008-2017 के बीच यॉर्कशायर (Yorkshire County Team) टीम की तरफ से काउंटी क्रिकेट खेले थे. इस दौरान उन्हें नस्लवाद का सामना करना पड़ा था. अब इस मामले पर रूट का बयान आया है. उन्होंने कहा कि यॉर्कशायर टीम के अपने पूर्व साथी अजीम रफीक के बारे में यह जानकर मुझे बहुत दुख हुआ कि उन्हें नस्लीय दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा.

पत्रकारों से बातचीत में रूट ने इंग्लैंड के क्रिकेट सिस्टम से हर तरह के भेदभाव को खत्म करने की बात कही. उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह बड़ा झटका है कि साथी खिलाड़ी के साथ कुछ लोगों ने बुरा बर्ताव किया. उन्होंने कहा कि मैं वास्तव में उस रिपोर्ट पर बहुत ज्यादा कुछ नहीं कह सकता हूं, जो मैंने अब तक नहीं देखी. लेकिन टीम के एक पूर्व साथी और दोस्त के रूप में अजीम को इस तरह चोट पहुंचते देखना मेरे लिए मुश्किल है.

इंग्लैंड के क्रिकेट सिस्टम में सुधार की जरूरत: रूट
इंग्लिश कप्तान ने आगे कहा कि यह बात हमें दिखाती है कि क्रिकेट के सुधार की दिशा में हमें अभी काफी काम करना है. मेरी राय में यह मुद्दा सामाजिक ज्यादा है. एक खेल के रूप में, हमें हमेशा सुधार की कोशिश करनी होगी कि आगे कभी इस तरह के विषय पर दोबारा बात न करनी पड़े. उन्होंने कहा कि भारत के खिलाफ हेडिंग्ले में होने वाले तीसरे टेस्ट से पहले इंग्लैंड की टीम भेदभाव विरोधी टी-शर्ट पहनेगी और इसके जरिए एकजुटता का संदेश देगी.

IND vs ENG 3rd Test: शार्दुल ठाकुर या इशांत, सूर्यकुमार यादव या पुजारा, ऐसी हो सकती है भारत की प्लेइंग XI

यॉर्कशायर टीम ने रफीक से माफी मांगी थी
रफीक ने एक इंटरव्यू में खुलासा किया था कि उन्होंने यॉर्कशायर की तरफ से खेलने के दौरान नस्लीय भेदभाव की कई बार शिकायत की थी. लेकिन उनकी शिकायत पर किसी ने ध्यान नहीं दिया. तब उन्होंने कहा था कि तब मैं खुद को बाहरी महसूस करता था. उस दौरान मैं आत्महत्या करने के कितने करीब था. मैं अपने परिवार के ‘पेशेवर क्रिकेटर’ के सपने को साकार कर रहा था. लेकिन अंदर से मैं रोज मर रहा था. मैं काम पर जाते हुए डरता था. मैं हर दिन दर्द महसूस करता था.

इंग्लैंड हुआ बेनकाब, काउंटी टीम ने नस्लभेद के लिए मांगी माफी, परेशान खिलाड़ी देना चाहता था जान!

बाद में इस मामले की एक स्वतंत्र जांच हुई, जिसमें यह पाया गया कि इंग्लैंड अंडर-19 टीम के पूर्व कप्तान अजीम रफीक ‘अनुचित व्यवहार के शिकार’ बने था. हाल ही में काउंटी टीम यॉर्कशायर ने इसके लिए रफीक से माफी भी मांगी थी.

30 साल के रफीक पाकिस्तानी मूल के खिलाड़ी हैं और उन्होंने 39 फर्स्ट क्लास, 35 लिस्ट-ए और 95 टी20 मैच खेले हैं. रफीक ने टी20 में 102, लिस्ट-ए में 43 और फर्स्ट क्लास में 72 विकेट चटकाए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here