पीएम के मुरीद हुए कपिल देव, कहा- मोदी जी आपने सभी खिलाड़ियों का दिल जीत लिया

0
141
पीएम के मुरीद हुए कपिल देव, कहा- मोदी जी आपने सभी खिलाड़ियों का दिल जीत लिया


नई दिल्ली. भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हाल ही में टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics) के लिए गए सभी एथलीटों के साथ मुलाकात की और उनसे बात की. उन्होंने इन खिलाड़ियों से स्कूलों में जाकर युवाओं को प्रेरित करने के लिए कहा और साथ ही अभिभावकों से आग्रह किया कि वह युवा पीढ़ी का खेल के क्षेत्र में पूरा समर्थन करें. पीएम मोदी के इस तरह एथलीटों के साथ मुलाकात की पूरे देश में तारीफ हो रही है. सिर्फ टोक्यो ओलंपिक जाने वाले एथलीट ही नहीं, बल्कि दूसरे खेलों से जुड़े लोग भी पीएम की इस पहल की जमकर तारीफ कर रहे हैं. भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र के एथलीटों से मिलने के कदम की जमकर तारीफ की है.

कपिल देव (Kapil Dev) ने द स्टेट्समैन में लिखे अपने कॉलम में कहा, ”यह स्पष्ट नहीं है कि भारत के किसी प्रधानमंत्री ने कभी कहा है कि वह हमारे देश में खेल की संस्कृति बनाना चाहते हैं या नहीं और माता-पिता से उन बच्चों को प्रोत्साहित करने की अपील की, जो खेल खेलना चाहते हैं. मोदी जी ऐसा करने वाले पहले हो सकते हैं. प्रधानमंत्री ने न केवल माता-पिता से अपने बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कहा है, बल्कि उन्होंने यह भी प्रदर्शित किया है कि खेलों और हमारे एथलीटों में सक्रिय रुचि लेकर ऐसा कैसे किया जाता है.

ICC Test Rankings: टेस्ट में विराट कोहली से बेस्ट बनने वाले हैं रोहित शर्मा, केन विलियमसन को जो रूट से खतरा

उन्होंने आगे कहा, ”ओलंपिक के दौरान भी प्रधानमंत्री ने खिलाड़ियों के साथ बात की थी, लेकिन उसमें भाषण या औपचारिकता नहीं थी. चोट के बावजूद प्रतिस्पर्धा करने के बजरंग पुनिया के दृढ़ संकल्प के बारे में से सवाल करना मुश्किल होता या रवि दहिया के साथ विरोधी के काटने के बारे में पूछना भी मुश्किल होता. यह सवाल भी मुश्किल था कि नीरज चोपड़ा के बारे में कि उन्हें कैसे पता चला कि उन्होंने भाला फेंकते ही जीत हासिल कर ली थी. मोदी जी ने कई एथलीटों के लिए माइक्रोफ़ोन भी रखा जो यह नहीं बता सके कि यह चालू है या बंद है. प्रधानमंत्री ने जोर इस बात पर जोर दिया कि ध्यान खेल पर बना रहे और यह उन एथलीटों पर, जिन्होंने ओलंपिक में भारत के लिए प्रतिस्पर्धा की, न कि किसी अधिकारी या नौकरशाह के लिए.”

पूर्व वर्ल्ड कप विजेता ने कहा, ”मोदी जी ने जिस तरह बात की, उदाहरण के लिए विनेश फोगाट से. मेडल नहीं जीतने के लिए खुद पर गुस्सा नहीं करने को कहा. उन्होंने कहा कि सफलता को कभी अपने सिर पर मत जाने दो और असफलता को कभी अपने दिल पर मत जाने दो. वह न केवल उसके लिए बल्कि उस घटना में कई अन्य लोगों के लिए भी प्रोत्साहन था, जिन्होंने कोई पदक नहीं जीता था. ओलंपिक के स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने वाले एथलीटों को खुद से बहुत उम्मीदें होती हैं और जब उनकी उम्मीदें धराशायी हो जाती हैं, तो उनके लिए खुद को सजा देना आसान होता है. ऐसे अकेलेपन में उन्हें सहारे के कंधे की जरूरत है और भारत के प्रधानमंत्री ने बेहतर दिखाया कि एक पूरा देश उनके साथ खड़ा है?

IND VS ENG: जसप्रीत बुमराह को मैदान पर पंगा लेते रहना चाहिए, जहीर खान ने दी गजब सलाह

कपिल देव ने कहा, ”मोदी जी की नीरज चोपड़ा को चूरमा और पीवी सिंधु को आइसक्रीम परोसते हुए उनकी तस्वीरें वायरल हो सकती हैं. जबकि वे सुखद यादें हैं, मुख्य सबक यह है कि भारत के लोकतंत्र के प्रभारी व्यक्ति मानते हैं कि खेल और खेल संस्कृति महत्वपूर्ण हैं. यही खेल संस्कृति के विकास को बढ़ावा देता है, जो मोदी जी की सबसे बड़ी विरासतों में से एक होगी. एक खिलाड़ी के रूप में, मैं खेल समुदाय को प्रधानमंत्री से प्यार और सपोर्ट प्राप्त करते हुए देखकर बहुत खुश हूं. मैं यह जोड़ना चाहता हूं कि अगर हमें भविष्य में और पदक जीतने हैं तो हमें खेल के बुनियादी ढांचे पर ध्यान देना चाहिए. और खेल के उपकरण पर कोई शुल्क नहीं होना चाहिए जो कि एथलीटों की आवश्यकता होती है.

उन्होंने अंत में कहा, ”मोदी जी आपने सभी खेल जगत का दिल जीत लिया. जय हिन्द.”

बता दें कि भारत ने हाल ही में संपन्न हुए टोक्यो ओलंपिक 2020 में सात मेडल जीते. यह भारत का ओलंपिक के इतिहास में अबतक का सबसे शानदार प्रदर्शन है. इससे पहले 2012 लंदन ओलंपिक में भारत ने 6 मेडल जीते थे. टोक्यो ओलंपिक में भारत ने एक गोल्ड, दो सिल्वर और चार ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here