इंटरनेट पर बीमारी के बारे में सर्च करना आपको कर सकता है बीमार!

0
147
इंटरनेट पर बीमारी के बारे में सर्च करना आपको कर सकता है बीमार!


नई दिल्ली.  आज इंटरनेट (Internet)हमारी बुनियादी जरूरत बन गया है. जानकारी, संदर्भ खोजने और अपडेट रहने के लिए इंटरनेट का व्यापक रूप से और लगातार उपयोग हो रहा है. इसलिए यह कहना अतिश्योक्ति नहीं है कि इंटरनेट हमारे हाथ का हथियार बन गया है; लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि इंटरनेट पर सर्च करने से कोई बीमारी हो सकती है? बहुत से लोग किसी बीमारी के लक्षण जानने, बीमारी के बारे में जानकारी प्राप्त करने के साथ-साथ उपचार के बारे में जानने के लिए लगातार इंटरनेट पर खोज कर रहे हैं. मौजूदा कोरोना काल में यह अनुपात बढ़ा है  लेकिन लगातार इंटरनेट पर बीमारियों के बारे में जानकारी खोजने से आप और भी बीमार हो सकते हैं. विभिन्न बीमारियों के लिए इंटरनेट पर लगातार खोज करना बीमारी का की वजह बन सकता है इंटरनेट पर जानकारी लेने से आप अपने स्वास्थ्य को लेकर बेवजह चिंतित हो जाते हैं. इसे मेडिकल साइंस में साइबर कोंड्रिया कहा जाता है.

स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ अबरार मुल्तानी ने कहा- मान लीजिए कि आप इंटरनेट पर सिरदर्द  के बारे में सर्च रहे हैं. ऐसे में इंटरनेट आपको सामान्य सिरदर्द से लेकर ब्रेन ट्यूमर तक की सारी जानकारी देता है. हमें ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और उस बीमारी की जानकारी मिलने लगती है क्योंकि गंभीर मामलों को पहले समझना मानव स्वभाव है. इस जानकारी को पढ़ते-पढ़ते हम और ज्यादा घबरा जाते हैं, हमारी नींद में खलल पड़ती है और इसलिए हमारे शरीर में पित्त की समस्या बढ़ जाती है.

डॉ. मुल्तानी ने कहा- ‘साइबरकोंड्रिया में साधारण सर्दी-खांसी को भी गंभीर बीमारी माना जाता है. मरीज डॉक्टर के पास जाने और बिना वजह और जांच कराने की जिद करता है.’ उन्होंने कहा, ‘गैस से होने वाली जलन की समस्या को लेकर कई मरीज हमारे पास आते हैं  लेकिन यह सोचकर कि उनको दिल का दौरा पड़ा है ,वे बिना किसी कारण के ईसीजी, टुडे-इको जैसे परीक्षण करने पर जोर देते हैं.’

साइबरकॉन्ड्रिया से बचने के लिए क्या करें?

– डॉ. अबरार मुल्तानी के अनुसार, इंटरनेट पर हर जानकारी सच नहीं है.

– किसी भी तरह की बीमारी या लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

– डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह पर विचार करें, उनकी सलाह के बिना कुछ भी न सोचें.

– डॉक्टर हर लक्षण के कई पहलू जानते हैं. इसके अलावा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में लक्षण अलग हो सकते हैं. मेडिकल जानकारी के बिना औसत व्यक्ति इसके बारे में सोच भी नहीं सकता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here