गंभीर और लंबे समय तक चलने वाले कोरोना संक्रमण से बचे लोगों में एंटीबॉडी का काफी अधिक: स्टडी

0
152
गंभीर और लंबे समय तक चलने वाले कोरोना संक्रमण से बचे लोगों में एंटीबॉडी का काफी अधिक: स्टडी


नई दिल्ली. कोरोना वायरस से बचे ऐसे लोग जिनके संक्रमण का स्तर गंभीर या लंबे समय तक था, उनमें इस बीमारी से लड़ने के लिए बेहतर एंटीबॉडी हो सकती हैं. रटगर्स यूनिवर्सिटी द्वारा प्रकाशित एक हालिया अध्ययन में यह बात सामने आई है. अध्ययन शुरू होने के 6 महीने के भीतर कुल 831 प्रतिभागियों के नमूने लिए गए. इनमें से 93 सार्स-सीओवी-2, या एंटीबॉडी के लिए पॉजिटिव मिले जो कि कुल नमूने का 11% है.

93 में से, 24 गंभीर रूप से संक्रमित थे और 14 में कोई लक्षण नहीं थे. पॉजिटिव नमूनों में से एक तिहाई में थकान, सांस लेने में तकलीफ और स्वाद व गंध की कमी जैसे लक्षण थे जो कम-से-कम एक महीने तक रहे, जबकि दस प्रतिशत में ऐसे लक्षण थे जो कम-से-कम चार महीने तक चले. अध्ययन से पता चलता है कि गंभीर लक्षणों वाले 96% प्रतिभागियों में इम्युनोग्लोबुलिन जी (IgG) एंटीबॉडी पाए गए, जबकि हल्के से मध्यम लक्षणों में यह 89% और बिना लक्षण वाले मरीजों में 79% थे.

ZyCov-D Vaccine: न सुई, न कोई दर्द! बच्चों के लिए कारगर नई कोविड वैक्सीन के बारे में जानें सबकुछ

विश्वविद्यालय के ‘द जर्नल ऑफ इंफेक्शियस डिजीज’ ने ‘विविध जनसंख्या में सार्स-सीओवी-2 संक्रमण के निर्धारक और गतिकी: संभावित कोहोर्ट अध्ययन का 6 महीने का मूल्यांकन’ पेपर के तहत यह अध्ययन प्रकाशित किया है. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, प्रकाशित स्टडी पेपर जो कि रटगर कोरोना विश्वविद्यालय के बड़े अध्ययन का हिस्सा है, ने महामारी की शुरुआत से 548 स्वास्थ्य कर्मियों और 283 अन्य लोगों को अपना आधार बनाया है.

एक प्रेस विज्ञप्ति में सह-प्रमुख लेखक डैनियल बी हॉर्टन के हवाले से कहा गया है कि टीकाकरण ‘प्रतिरक्षा सुरक्षा को बढ़ाता है’ और कभी-कभी ‘लंबे समय तक चलने वाले लक्षणों को कम करने’ में भी मदद करता है. सह-प्रमुख लेखक एमिली एस बैरेट ने कहा, ‘एंटीबॉडी के स्तर में समय के साथ गिरावट आना सामान्य है. फिर भी, इम्युनोग्लोबुलिन (IgG) एंटीबॉडी शरीर को कोरोना के पुन: संक्रमण से लड़ने में मदद करने के लिए लंबे समय तक सुरक्षा प्रदान करते हैं.’

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here