सहवाग के साथ ओपनिंग करने वाले भारतीय बल्लेबाज का हुआ मानसिक शोषण! क्रिकेट के लिए छोड़ा देश

0
188
सहवाग के साथ ओपनिंग करने वाले भारतीय बल्लेबाज का हुआ मानसिक शोषण! क्रिकेट के लिए छोड़ा देश


नई दिल्ली. एक खिलाड़ी जिसे भारत का अगला सुपरस्टार कहा जाता था, जिसने भारत को 2012 में अपनी कप्तानी में अंडर 19 वर्ल्ड कप जिताया, अब उस खिलाड़ी ने महज 28 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. बात हो रही है उनमुक्त चंद (Unmukt Chand) की जिन्होंने 13 अगस्त को भारतीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया. उनमुक्त चंद पिछले तीन महीनों से अमेरिका में हैं और वहां वो प्रोफेशनल क्रिकेट खेलने वाले हैं. उनमुक्त चंद ने भारतीय क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद एक इंटरव्यू में आरोप लगाया है कि उन्हें दिल्ली क्रिकेट एसोसिएशन ने मानसिक रूप से प्रताड़ित किया.

उनमुक्त चंद ने स्पोर्ट्सकीड़ा को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया कि चार महीने पहले तक वो भारतीय क्रिकेट से संन्यास के बारे में सोच भी नहीं रहे थे लेकिन डीडीसीए की गंदी राजनीति के बाद उन्होंने अमेरिका जाने के बारे में सोचा और संन्यास का कदम उठाया.

उनमुक्त चंद का दर्द आया सामने
उनमुक्त चंद ने कहा, ‘पिछले कुछ साल मेरे लिए काफी कठिन रहे. पिछले सीजन में मुझे दिल्ली से एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला. बार-बार वही सत्ता आ रही थी और मुझे नहीं पता था कि मैं खेलूंगा भी या नहीं. मेरे लिए बेंच पर बैठे रहना एक मानसिक प्रताड़ना के समान था क्योंकि जिन भी खिलाड़ियों को मैच खेलने का मौका मिल रहा था, उन्हें मैं अपनी क्लब टीम में भी शामिल नहीं करूंगा.’

उनमुक्त चंद ने आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स और मुंबई इंडियंस का प्रतिनिधित्व किया है (PC-उनमुक्त चंद इंस्टाग्राम)

उनमुक्त चंद ने आगे कहा, ‘मैं इस बारे में और ज्यादा सोचकर अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहता था. इसलिए मैंने अमेरिका जाने का फैसला लिया. मेरे करियर में अब कुछ ही साल बचे हैं और मैं अच्छा क्रिकेट खेलना चाहता हूं. अधर में लटके रहने से बुरा कुछ भी नहीं है.’

उनमुक्त चंद का करियर
बता दें उनमुक्त चंद ने दिल्ली और उत्तराखंड के लिए रणजी ट्रॉफी खेली है और उन्होंने 67 फर्स्ट क्लास मैचों में 8 शतक की मदद से 3379 रन बनाए. लिस्ट ए क्रिकेट में उनमुक्त के बल्ले से 41.33 की औसत से 4505 रन निकले. उनमुक्त चंद ने टी20 क्रिकेट में भी 3 शतक ठोके हैं.

उनमुक्त चंद आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स और मुंबई इंडियंस के साथ जुड़े रहे. दिल्ली में उन्होंने सहवाग के साथ ओपनिंग की और रोहित शर्मा की कप्तानी में भी उन्होंने मुंबई इंडियंस का प्रतिनिधित्व किया. हालांकि उनका आईपीएल करियर परवान नहीं चढ़ा. दाएं हाथ का ये बल्लेबाज आईपीएल में 15 की औसत से 300 रन ही बना पाया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here